गर्भावस्था में शरीर की त्वचा का ऐसे रखें ख्याल

Pregnancy

गर्भावस्था के समय जब पेट और स्तन का आकार बढ़ता है तो ज्यादातर महिलाओं के पेट और स्तन पर खिंचाव के निशान पड़ जाते हैं। भिन्न टेक्सचर वाली त्वचा पर ये छोटी, दबी धारियां, गुलाबी, लाल-भूरी या गहरे भूरे रंग की हो सकती हैं और यह महिला की त्वचा के रंग गर्भावस्था से संबधित ब्रेक आउट का उपचार मुंहासों की परंपरागत दवाइयों से मत कीजिए। अपने डर्मेटोलाॅजिस्ट को बताइए कि आप गर्भवती हैं या गर्भधारण करने की योजना बना रही हैं। इस तरह आप गर्भावस्था के लिए उपयुक्त स्किन केयर नियम का विकास कर पाएंगी।

  • माश्चराइज़र भी ज़रूरी है: गर्भावस्था के दौरान त्वचा अधिक खुश्क हो जाती है इसलिए माश्चराइज़र का प्रयोग ज़रूर करें।
    फेशियल मसाज करायें:किसी अच्छे तेल से शरीर की मालिश करायें या फेशियल करायें, ऐसा करने से शरीर में रक्त का संचार ठीक रहेगा।
  • पानी की पर्याप्त मात्रा: पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से आपके शरीर में मौजूद टौक्सिन निकल जायेंगे और आपकी त्वचा भी स्वस्थ दिखेगी।
  • गर्भावस्था में तैलीय त्वचा की देखभाल के लिए मेकैनिकल एक्सफोलियंट का उपयोग कीजिए ताकि त्वचा साफ रहे। रोमछिद्रों को बंद करने वाली त्वचा की मृत कोशिकाओं को अपनी त्वचा की सतह से हटाइए। इसके लिए बहुत बारीक कण वाले जेंटल स्क्रब सबसे उपयुक्त है।
  • प्रत्येक दो सप्ताह या आसपास पर अच्छी तरह सौम्य सफाई के लिए किसी सैलून में क्लीजिंग फेशियल जरूर आजमाइए। सैलून को अपनी स्थिति बता दीजिए और यह भी कि आप विटामिन ए प्रीपरेशन और एक्सफोलियंट से बच रही अपने चेहरे पर रोज दोबार किसी सौम्य, नाॅन ड्राइंग क्लींजर का उपयोग कीजिए।
  • माॅयश्चराइजिंग साबुन से बचिए, क्योंकि इनमें इमोलियंट्स होते हैं जो रोमछिद्रों को बंद कर देते हैं।

Related posts

Leave a Comment