यह चीज कहीं दिखे तो छोड़ें ना, गुप्त रोगों का है काल

shahtoot

शहतूत को मलबेरी के नाम से भी जाना जाता है। मध्य भारत में यह प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। वनों के अलावा इसे सड़कों के किनारे और बाग-बगीचों में भी देखा जा सकता है। इसका वानस्पतिक नाम मोरस अल्बा है। शहतूत को अंग्रेजी में मूलबेरी और आम बोलचाल की भाषा में शहतूत कहा जाता है। मई के महीने में शहतूत पूरी तरह से पक जाता है और पोषक तत्वों से भरपूर होने के साथ ही यह बहुत स्वादिष्ट होता है। शहतूत का फल खाने में जितना स्वादिष्ट होता है…