भारतीय रसोई मे धनिया का इस्तेमाल एक सामान्य सी बात है। मारवाडी भाषा में इसे धोणा के नाम से जानते है। वैसे तो इसके पत्तों का प्रयोग रसोइयों के किसी भी पकवान कम ताजगी लाने के लिए और चटनी बनाने में भी इस्तेमाल किया जाता है। साथ ही इसके सूखे हुए बीज भी बहुत ही उपयोगी होते है, इनका उपयोग पकवानों में मसाले के तौर पर किया जाता है। लेकिन क्या आपको पता है इसका प्रयोग हमारे भारतवर्ष में एक औषधि के रूप में भी किया जाता है। इसके अलावा इसमें छह प्रकार के एसिड, ग्यारह घटक, खनिज और विटामिन पाए जाते हैं। तो आइए इस लेख को आगे बढ़ाते हुए जानते हैं इस पौधे के औषधीय गुणों को-

  1. चेहरे पर ताजगी- धनिये के बीज के साथ सौंफ को दिन में दो से तीन पर चबाकर खाने से आपके चेहरे पर ताजगी दिखने लगेगी।
  2. थायराइड- यदि आपको थायराइड की समस्याएं हैं तो आप धनिये के बीज का थायराइड की समस्या में बहुत लाभदायक होते हैं। इसका सेवन आप धनिया की स्मूदी, धनिया का काढ़ा या धनिया का पानी अपने आहार के रूप में प्रयोग कर सकते हैं।
  3. पेशाब का पीलापन- यदि आप के पेशाब में पीलापन ज्यादा आ रहा है तो, धनिये के बीज को पीसकर इसे एक गिलास पानी में दो चम्मच धनिया मिला लें अब इसे 5-7 मिनट तक उबलने के लिए आग पर रख दें। औरऔर ठंडे होने पर छान लें, इसका सेवन सुबह और शाम करें, पेशाब का पीलापन समाप्त हो जाएगा।
  4. किडनी की पथरी- पथरी होने पर धनिया के पत्तों को उबालकर छान लें। उसका सेवन सुबह ख़ाली पेट करने से पेट की पथरी बाहर निकल जाती है।
  5. उल्टी में राहत- उल्टी होने पर धनिया पाउडर का एक चम्मच तुरंत लें उल्टी होना बंद हो जाएगी।
  6. मुहासों और काले धब्बे- धनिये की कुछ पत्तियां पीस लें, अब इसमें एक चुटकी हल्दी मिलाएं। इस मिश्रण को रोजाना दिन में दो बार लगाने से मुहांसे और काले धब्बे जड़ से साफ हो जाएंगे और सुंदरता बढ़ेगी।
  7. मुंह के छाले- एक चम्मच धनिया पाउडर को 250 ml पानी में अच्छे से मिलाकर छान लें। अब इस पानी से दिन में 2-3 बार कुल्ला करें, मुंह के छाले ठीक हो जाएंगे।
error: Content is protected !!