वीडियो…

करी पत्तों में बहुत मात्रा में प्रोटीन और बीटा कैरोटीन होता है, जो बालों को क्षतिग्रस्‍त होने से रोकने के साथ ही बालों को पतला होने से रोकने में मदद करता है। यह बालों के रोम को नया जीवन प्रदान करता है। हमें इसका उपयोग सब्ज़ियों के साथ करना चाहिए जो की बहुत ही गुणकारी होता है। करी पत्ता को कड़ी पत्ता या मीठी नीम भी कहा जाता है। इसे मीठी नीम इसलिए कहते हैं क्योंकि इसके पत्ते नीम की तुलना में थोड़े कम कड़वे, कषैले होते हैं। करी पत्ता के पेड़ पूरे भारत में पाए जाते हैं।
करी पत्ता का सबसे ज्यादा उपयोग खानों में ख़ास महक पैदा करने के लिए किया जाता है। आयुर्वेद में बताया गया है कि करी पत्ता के गुण बहुत से हैं. करी पत्ता से कई बीमारियों का इलाज और रोगों से बचाव किया जा सकता है। आखिर क्यों आवश्यक रूप से प्रयोग किया जाता है कड़ी पत्ता? जानिए बेहतरीन कारण

kari patta
लीवर शरीर का बहुत महत्त्वपूर्ण हिस्सा है। कई प्रकार के काम करता है। स्वस्थ रहने के लिए लीवर का निरंतर बिना रुके सही तरीके से काम करना जरुरी होता है। करी पत्ता लीवर को सशक्त बनाता है । यह लीवर को बेक्टिरिया तथा वायरल इन्फेक्शन से बचाता है। इसके अलावा यह फ्री रेडिकल्स , हेपेटाइटिस , सिरोसिस आदि कई प्रकार की बीमारियों से लीवर को बचाता है।

kari patta

अगर आप डायबिटीज को नियंत्रित रखना चाहते हैं तो आप करी पत्ते का उपयोग करें क्योंकि करी पत्ते में पाए जाने वाला फाइबर इंसुलिन को बढ़ाकर ब्लड शुगर लेवल को कम करता है इसलिए मधुमेह से ग्रस्त व्यक्तियों को अपनी डाइट में कड़ी पत्ता को शामिल अवश्य करना चाहिए|
पाचन संबंधी समस्या हो या फिर दस्त लगने पर कड़ी पत्ते को पीसकर छाछ में मिलाकर पिएं। यह पेट की गड़बड़ी को भी शांत करेगा और पेट के सभी दोषों का निवारण करने में सहायक होगा।

kari patta
करी पत्ते लें और इसे पीस कर इसका पेस्ट बना लें। अब इसमें थोड़ा दही मिलाएं और इसे अपने बालों पर लगाएं। इस मिश्रण को बालों में 20-25 मिनट के लिए छोड़ दें, फिर शैम्पू से बालों को धो दें। इससे आप के बाल काले और घने हो जाएंगे।

error: Content is protected !!