वैसे तो धतुरा एक प्रकार का जहर होता लेकिन शायद आपको पता नहीं है कि इसका प्रयोग औषधिओं को बनाने में भी किया जाता है| यह पौधा भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है इसीलिए धतूरे के फूल, फल, और पत्ते को भगवान शिव को चढ़ाया जाता है.

  • धतूरे को अगर जलाए तो इससे निकलने वाले धुंए से दमा जैसी जानलेवा बीमारी को ठीक किया जा सकता है.
  • परों के गठिया रोग और हड्डीओं में किसी प्रकार के दर्द पर धतूरे की पत्तिओं को पीसकर लगाने से सूजन और दर्द कम हो जाता है.
  • धतूरे के पत्ते को सेक कर बवासीर और भगंदर पर बांधने से लाभ होता है.
  • धतूरे के रस को रोजाना गंजे सिर पर लगाने से बालों के दोबारा उगने की सम्भावना बढ़ जाती है.
  • यदि किसी को मिर्गी आती है तो उसे धतूरे का जड़ सूंघने से मिर्गी आना बंद हो जाता है

ध्यान दें : धतूरा एक जहर होता है इसके प्रयोग से पहले किसी आयुर्वेद विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें

error: Content is protected !!