आयुर्वेद

इन 7 गंभीर बीमारियों का काल है छुई मुई, करता है सफाया

mimosa chuimui

छुई मुई को लाजवन्ती के नाम से भी जाना जाता है। वैसे तो सभी छुईमुई को छू कर उसे मुरझाते हुए देखते हैं और उसका आनद लेते हैं। लेकिन बहुत कम लोग ही छुईमुई के औषदीय गुणों को जानते हैं हम आपको बता रहे हैं। छुई मुई के हैरान करने वाले गुण।

  • छुई मुई के 100 ग्राम पत्ते को 300 मिली पानी में डालकर गरम कर के एक काढ़ा तैयार कर लें। अब इसे काढ़े को मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति हो देने से आराम मिलता है।
  • टांसिल्स होने पर इसकी पत्तियों को पीसकर गले पर लगाने से जल्द ही आराम मिलता है। इसे दिन में दो बार करना चाहिए।
  • छुई मुई के पत्तों को पानी में पीसकर नाभि के निचले हिस्से में लेप करने से पेशाब का बार बार आना बंद हो जाता है।
  • शारीरिक कमज़ोरी महसूस होने पर रोज़ाना रात को सोने से पहले तीन ग्राम छुई-मुई के बीजों के चूर्ण को दूध के साथ मिलाकर सेवन करना चाहिए।
  • किसी भी चोट की घाव को जल्दी से भरने के लिए छुई मुई की जड़ का 2 ग्राम चूर्ण दिन में तीन बार गुनगुने पानी के साथ सेवन करें।
  • छुई मुई की 3 ग्राम जड़ का चूर्ण बनाकर दही में मिलाकर चाटने से खूनी दस्त बंद हो जाता है।
  • वीर्य की कमी की समस्या से निजात पाने के लिए रोजाना रात को सोने से पहले चार ग्राम लाजवंती के बीज और जड़ का चूर्ण एक गिलास दूध के साथ मिलाकर सेवन करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!