कफ वाली खांसी आने पर लौकी की गिरी खानी चाहिए।

छाले होने पर लौकी के बीज को पीसकर छाले वाली जगह पर लगाने से लाभ होता है।

चेहरे पर झाइयां होने पर लौकी के छिलके को पीसकर चेहरे पर लेप करने से सुंदरता बढ़ती है।

लौकी बिच्छू के जहर को कम कर देता है बिच्छू के डंक मारने पर लौकी को पीसकर लेप करने और लौकी का जूस पिलाने से जहर कम हो जाता है।

पैर की तली में जलन होने पर लौकी की पतली स्लाइस नीचे लगे जलन बंद हो जाएगा।

किसी बर्तन में लौकी को डालकर आग पर रख दें कड़छुल से अच्छे से कुचल दें अब इसको निचोड़ कर इसका रस निकल लें इसके बाद इसमें मिश्री डालकर पी जाएं यह लिवर के लिए बहुत की फायदेमंद होता है यह पीलिया का एक घरेलू नुस्खा है।

गठिया या फिर किसी प्रकार के जोड़ों के दर्द में लौकी के लुगदी बनाकर बांधने से आराम मिलता है।

error: Content is protected !!