शरीफा में पोटेशियम, मैग्नीशियम, विटामिन A, कैल्शियम, तांबा, फाइबर और फॉस्फोरस भरपूर मात्रा में पाया जाता है। यह फल अगस्त से नवंबर के बीच आना शुरू हो जाता है। शरीफा को सीताफल नाम से भी जाना जाता है। लोग सीता फल को भगवान राम और माता सीता से जोड़ते हैं, ऐसी मान्यता हैं की माता सीता ने जो फल भगवान राम को भेंट किया था, उसका नाम सीताफल पड़ गया। शरीफा बाहर से सख्त पर अंदर से बहुत नरम होता है। इसका गूदा सफ़ेद रंग का मलाईदार होता है तथा बीज काले रंग के होते है। इससे चश्मे का नम्बर बढ़ने से भी आसानी से रोक सकते हैं। तो आइये ऐसे ही सीताफल के कुछ फायदे के बारे में जानें।

  • शरीफा में विटामिन A बहुत ही अधिक मात्रा पाया जाता है जो आपके आंखों के लिए फायदेमंद होता है। यह विटामिन आंखों की रोशनी को बढ़ाने के लिए बहुत ही सहायक होता है।
  • शरीफा खाने से आपके इम्युनटी सिस्टम की क्षमता बढ़ती है, क्योंकि इसमें अधिक मात्रा में प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट विटामिन पाया जाता है। जिससे यह बीमारियों से लड़नें में आपकी मदद करता है, परिणामस्वरूप आपका शरीर स्वस्थ्य रहता है।
  • सिर के बाल कम हो जाए पर शरीफा के बीज को बकरी के दूध के साथ पीस कर सीर पर लेप करने से, सीर के उड़े हुए बाल जल्दी ही उग जाते हैं और दिमाग़ को भी ठंडक मिलती हैं।
  • सीताफल खाने से मन प्रसन्न रहता है। यह दिमाग को शांत रखता है तथा तनाव को कोसों दूर रखता है।
  • सीताफल खाना दांत और मसूड़ों के लिए फायदेमंद होता है। इसमें पाया जाने वाला कैल्शियम दांत मजबूत और मसूड़े स्वस्थ रहते हैं।
  • अगर आपको कमजोरी महसूस हो रही है तो शरीफा आपकी यह परेशानी दूर कर सकता है। साथ ही यदि शरीर में ऊर्जा की कमी हो रही है तो इस स्थिति में भी यह बहुत ही अच्छा एनर्जी का सोर्स है।
  • यदि आप दुबले पतले है तो शरीफ़ा जरूर खाएँ क्योंकि शरीफा में वज़न बढ़ाने की भरपूर क्षमता होती है। इसको लगातार खाकर वज़न आसानी से बढ़ाया जा सकता है।
error: Content is protected !!