खाली पेट सेवन से लहसुन के गुण बढ़ जाते है। डायरिया के इलाज के लिए कारगर होता है। लहसुन की एक कली हमारे शरीर को कई बीमारियों से बचाती है। नियमित लहसुन खाने से ब्लडप्रेशर कम या ज्यादा होने की बीमारी नहीं होती। लहसुन का इस्तेमाल हम खाने का स्वाद बढाने में किया जाता है। यह हमारे शरीर के लिए किसी अमृत से कम नहीं है। नियमित लहसुन खाने से ब्लडप्रेशर कम या ज्यादा होने की बीमारी नहीं होती।

लहसुन पेट एसिडिटी में बहुत ही फायदेमंद होता है, लेकिन इसका सेवन करने से यह पेट में एसिड बनने से रोकता है।

लहसुन की एक कली काफी फायदेमंद होती है। लहसुन मेंएन्टीबैक्टिरीअल और दर्द निवारक गुण दांत के दर्द से राहत दिलाता है। इसके लिए इसका एक कली पीसकर दांत के दर्द के जगह पर लगा दें।

लहसुन रक्त के प्रवाह को नियमित करता है साथ ही हृदय से संबंधित समस्याओं को भी दूर करता है यह लीवर और मूत्राशय को भी सुचारू रूप से काम करने में सहायक होता है।

लहसुन पेट संबंधी सभी समस्याओं के लिए काफी लाभकारी है। लहसुन का सेवन करने से आपके पेट में मौजूद विषाक्त पदार्थों को साफ कर देता है और कब्ज से भी छुटकारा मिलता है।

लहसुन श्वसन तंत्र की सभी परेशानियों जैसे ज़ुकाम, ब्रोंकाइटिस, निमोनिया, पुरानी सर्दी, ट्यूबरक्लोसिस (तपेदिक), अस्थमा, फेफड़ों में जमाव और कफ़ आदि रोकथाम तथा इलाज में बहुत ही लाभकारी है।

अगर आपको भूख कम लगती हो तो लहसुन का सेवन करना आपके लिए फायदेमंद रहेगा। यह आपके पाचन क्रिया को ठीक करता है और भूख बढ़ जाती है।

लहसुन एंटीबायोटिक होता है। इसलिए लहसुन को फोड़े होने पर पीसकर उसकी पट्टी बांधने से फोड़े ठीक हो हैं।

लहसुन खांसी और टीबी जैसी बीमारियों से छुटकारा दिलाने में लाभकारी है। इसके अलावा लहसुन के रस की बूंदों को रूई में भिगोकर सूंघने से सर्दी भी ठीक हो जाती है।

error: Content is protected !!