डेंगू बुखार एक प्रकार का संक्रमण होता है, जो कि डेंगू नामक वायरस के कारण होता है। इससे पीड़ित को इतनी जोर से दर्द होता है कि जैसे उनकी हड्डियाँ टूट गईं, हों इसीलिए इसे हड्डी तोड़ बुखार के नाम से भी जानते हैं। यह हमारे लिए दुखद है कि इस रोग का कोई वैक्सीन नहीं है। इसलिए आप मछरों को नजरअंदाज न करें इससे बचाव के लिए मछरों से बचे और अपने परिवार की रक्षा करें। इसके अलावा हम आपको कुछ टिप्स और घरेलू नुस्खे बता रहे हैं, जिससे आप की कुछ मदद हो सकती है।

 

डेंगू के लक्षण

डेंगू का अगर समय रहते पता चल जाता है, तो इसका इलाज आसानी हो सकता है। इसके कुछ प्रमुख लक्षण हैं। तेज बुखार, सिर दर्द, मांसपेशियों में दर्द, पेट का दर्द और पेट खराब हो जाना, कमज़ोरी का अहसास, चक्कर आना, दस्त होना, भूख का न लगना, शरीर पर लाल चकते भी हो सकते हैं।

 

डेंगू से बचाव के लिए इन्हें जरूर करें

  1. स्विमिंग पूल का पानी समय से बदलते रहें।
  2. दरवाजों और खिड़कियों पर जाली लगा कर रखें।
  3. सोने से पहले सदैव मच्छरदानी का प्रयोग करें।
  4. सुबह और शाम को घर के अंदर रहें क्योंकि ज्यादातर मच्छर इन्ही समयों पर सक्रीय होते हैं।
  5. पूरी बाजू का शर्ट और पैंट पहने जिससे की मच्छर न काट सके।

 

बचाव के घरेलू उपाय

  1. डेंगू के बुखार को ठीक करने के आवलें का सेवन करें इसमें विटामिन C होता है, जो शरीर की लौह को तेजी से ग्रहण करती है।
  2. तुलसी की बानी चाय या फिर पानी में तुलसी के पत्तों को उबाल लें और छान कर मरीज को दें आराम मिलेगा।
  3. डेंगू होने पर पपीते के पत्ते को पीस कर पानी में डालकर पिलाएं यह डेंगू के रामबाण है।
  4. चिरायता एक औषधीय पौधा है यह किसी भी प्रकार के बुखार को ठीक कर सकता है, इसके पत्तों को पीसकर पानी के साथ या खाकर पानी पिएँ।
  5. मेथी के पत्तों का काढ़ा बनकर पिएँ यह डेंगू के संक्रमण को आसानी से समाप्त कर सकते हैं।
  6. डेंगू होने पर खून का स्तर कम हो जाता है, इसके लिए आप अनार या फिर काले अंगूर का सेवन करें।
  7. डेंगू में संतरे के जूस का सेवन कर सकते हैं, इससे मरीज की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी और डेंगू जल्दी ठीक होगा।
error: Content is protected !!