शरीरिक वेग शरीरिक क्रिया का हिस्सा है, इनको हमारा शरीर अपने आप ही अपनी आवश्यकता के अनुसार शरीर से निकालता या लेने की कोशिश करता है। शारीरिक सम्बन्ध करना शारीरिक प्रतिक्रिया के साथ साथ मानसिक चेतनाओं को भी जाग्रत करता है. सम्भोग प्यार को दर्शाने का एक अहसास होता है. जिसका मजा जितनी देर लिया जाये उतनी ही सुख की अनुभूति होती है। कुछ वेग तो ऐसे हैं के जिनको रोकने मात्र से आपको लकवा तक हो सकता है। स्पर्म का जल्दी गिरना. स्पर्म के जल्दी गिर जाने से आप न तो शारीरिक सुख प्राप्त कर सकते हो और ना ही अपने आपको अपने पार्टनर के प्रति बेहतर साबित कर पाते हो। आज हम आपको इन्ही वेगों के बारे में बताने जा रहें हैं।

स्पर्म के रूकने से प्रोसट्रेट का कैंसर होने का ख़तरा होता हैं। स्पर्म को रोकने से मुत्राशय मे सूजन और फोतो मे पीङा, पेशाब का कष्ट से होना, शुक्र की पथरी और स्पर्म का रिसना, चरक सहिंता मे लिखा है है कि शारीरक सम्बन्ध बनाते समय छूटते स्पर्म को रोकने से प्राइवेट पार्ट और फोतो मे दर्द होता है। अंगड़ाई आना, हृदय में पीङा और पेशाब का रुक रुक के आना आदि बीमारी हो सकती है।

error: Content is protected !!