+ +

+
+
+

शरीर में ग्लूकोज की कमी से होने वाली बीमारियाँ

मांशपेशियों में पाया जाने वाला ग्लाइकोजिन जिसे हम ग्लूकोज भी कहते हैं शरीर के तापमान को सही और संतुलित रखने में मदद करता है।

ग्लूकोज का स्तर लगभग 80 प्रतिशत होता है। कार्बोहाइड्रेट मेटाबोलिज्म को संतुलित बनाये रखने में ग्लूकोज़ की अहम भूमिका होती है।

किडनी को खून से बढ़ा हुआ शुगर फिल्टर करने में बहुत मेहनत करनी पड़ती है, जब किडनी ये काम नहीं कर पाती है तो यूरिन आने की फ्रिक्वेंसी बढ़ जाती है।

ब्लड शुगर कम होने पर बेहोशी छाना- दिमाग की कोशिकाओं को सही ढंग से चलाने के लिए ग्लूकोज की जरूरत होती है।

लो ब्लड शुगर के लक्षण अचानक हो सकते हैं। इनमें धुंधुली नजर, तेज धड़कन, अचानक घबराहट, पीली त्वचा, सिरदर्द, भूख ,चक्कर आना, सोने में कठिनाई, ध्यान केंद्रित करने में परेशानी, आदि शमिल है।

पेट खाली है या अचानक तेज भूख लग जाए तो ये इस बात का संकेत हो सकता है कि शरीर को और ज्यादा ग्लूकोज की जरूरत है।

अचानक मूड बदल जाना यानी मूड स्विंग्स भी शरीर में लो शुगर लेवल का संकेत हो सकता है। 

Roganusar.com

Dedicated to your Health

हेल्थ की पूरी जानकारी के लिए यहाँ Click करें

Click Here