सूरजमुखी एक औषधीय वनस्पति है। इसके पत्ते, बीज, फूल सभी का औषधी के रूप में प्रयोग किया जाता है। प्राय: सभी पेड़ पौधे सूर्य प्रकाश के लिए सूर्य की ओर कुछ न कुछ झुकते हैं। सूरजमुखी का सूर्य की ओर झुकना आँखों से देखा जा सकता है। इनके बीजों में काफी सारा विटामिन E तथा अन्य खनिज पदार्थ होते हैं, जो सिर से ले कर पांव तक फायदा पहुंचाते हैं। सूरजमुखी के तेल में लिनोलिक एसिड, ओलिक एसिड और पामिटिक एसिड पाए जाते हैं। इसमें उच्च मात्रा में विटामिन E, A और D भी होते हैं।

  • एथलीट्स सूरजमुखी के बीज का सेवन करते हैं, क्योंकि सूरजमुखी के बीजों में प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट की बहुत अधिक मात्रा पायी जाती है। ये बीज रक्त के प्रवाह में लिवर के ग्लाइकोजन का निर्वहन करते हैं। इसके अलावा सूरजमुखी के पत्तों का लेप लिवर और फेफड़ों की सूजन में लाभकारी होता है।
  • सूरजमुखी बीज के तेल में पाया जाता है जो हमारी त्वचा को बैक्टीरिया से बचा कर कील मुहांसों से बचाते हैं।
  • रिसर्च द्वारा कहा गया है कि यह पेट, प्रोस्ट्रेट और ब्रेस्ट कैंसर से रक्षा करता है। इसमें विटामिन ई, सेलियम और कॉपर होता है, जिसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं।
  • सूरजमुखी तेल गठिया को रोकथाम में में लाभदायक होता है। इसलिए गठिया के मरीजों की समस्या में सूरजमुखी के तेल का उपयोग फायदेमंद होता है।
  • सूरजमुखी आपके दिमाग को शांत रखता है। इसमें पाये जाने वाले मैग्नीशियम दिमाग की नसों को शांत करते हैं साथ ही स्ट्रेस और माइग्रेन से छुटकारा दिलाता है।
  • सूरजमुखी के बीज में प्रचुर मात्रा में फाइबर होता है जो पेट की कब्ज की समस्या से निजात दिलाता है।
  • सूरजमुखी के तेल से त्वचा की नमी बनी रहती है। साथ ही यह बैक्टीरिया के खिलाफ की रक्षा में मदद करता है।
error: Content is protected !!