गेंदे के फूल को बहुत ही पसंद किया जाता है। इसे भारत की कई हिस्सों में उगाया जाता है। इससे कई प्रकार की बीमारयों को ठीक किया जा सकता है। यह खास तौर पर किसी घाव या जले हुए हिस्सों को भरने में प्रयोग किया जाता है।

  1. गेंदे के तेल में एंटी सेप्टिक और एंटी माइक्रोबियल गुण होते हैं। जो किसी भी घाव या फिर जले हुए हिस्से को भर देता है इससे बने क्रीम या फिर तेल या इस्तेमाल फायदेमंद है।]
  2. गेंदे के फूल का तेल दाग धब्बे को हटाने में मदद करती है। गेंदे में एंटी फंगल के गुण होते हैं, जो चेहरे के मुँहासे पर गेंदे के फूल का तेल युक्त क्रीम लगाने से मुँहासे दूर हो जाते हैं।
  3. गेंदे के फूल में पाए जाने वाला फायटोकॉन्सटीटूएंट्स फायटोकॉन्सटीटूएंट्स होता है, जो एंटी एजिंग की प्रक्रिया को धीमा करता है। इसके फूल से बने तेल या फिर क्रीम का प्रयोग करने से त्वचा की झुर्रियां समाप्त हो जाती हैं। यह त्वचा में कोलेजन के स्तर को बढ़ाता है, जिससे चेहरा साफ़ रहता है।
  4. गेंदे की में जेक्सनथिन, एंटीऑक्सीडेंट्स, ल्य्कोपेन, लुटेइन आदि होते हैं जो हमारे नेत्र के लिए फायदेमंद होता है। गेंदा एंटीसेप्टिक का काम करता है। इस के रस से लाल आँखों को धुलने से आराम मिलता है।
  5. गेंदे के फूल से बने तेल से चेहरे पर मालिश करने से त्वचा में रक्त का संचार बढ़ता है, और आपकी त्वचा का रंग निखरने लगेगी।
error: Content is protected !!