नाशपाती एक ऐसा फल जिसमें किसी अन्य फलों के मुकाबले हर प्रकार के पोषक तत्व होते हैं। भारत में नाशपाती की खेती पंजाब, उत्तर प्रदेश और कश्मीर में की जाती है। यह फल हजारों सालों से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रयोग किया जा रहा है। नाशपाती में फिनालिक कंपाउंड, फोलेट, पोटेशियम, विटामिन-सी, विटामिन K,विटामिन, खनिज, आर्गेनिक कंपाउंड फाइबर, तांबा, मैंगनीज, मैग्नीशियम के साथ साथ बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन भी पाया जाता है।

नाशपाती कहने से शरीर में उपस्थित ग्लूकोस एनर्जी में परिवर्तित हो जाता है, और इससे आपको ताकत का अनुभव होता है।

गर्भवती महिला को नाशपाती खिलाने से बच्चा स्वस्थ और तंदुरुस्त होता है।

इसमें पाये जाने वाला पेक्टिन हमारे शरीर में कोलेस्ट्रोल की मात्रा को कम रखता है।

गठिया या आर्थराइटिस में नाशपती रामबाण का काम करता है, इसके सेवन से गठिया में हुआ सूजन कम हो जाता है और दर्द में राहत मिलती है।

नाशपाती खाने से हड्डियां मजबूत होती क्योंकि इसमें बोरॉन पाया जाता है जो हड्डियों में कैल्शियम को बनाए रखती है।

यह हमारे पेट के अत्यंत फायदेमंद है इससे हमारे पेट में कब्ज की शिकायत दूर हो जाती है।

नाशपाती खाने से हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और बिमारियों से रक्षा करती है।

इसी व्यक्ति को अगर जोर का बुखार हो तो उसे नाशपाती खिलाएं इससे शरीर का तापमान नियंत्रित हो जाता है और बुखार उतर जाता है।

गर्मियों के दिनों में आप नाशपाती का सेवन करें इससे आपको गर्मी कम लगेगी और आप स्वस्थ्य रहेंगे।

error: Content is protected !!