यदि ब्रेन ट्यूमर का समय रहते इसका उचित इलाज नहीं कराया जाए तो यह जानलेवा भी साबित होता है। आपके मस्तिष्क को आवरण में रखने वाली खोपड़ी बहुत ही सख्त होता है। लेकिन इस समय में ब्रेन ट्यूमर सजर्री इसका एक प्रमुख इलाज है। ब्रेन ट्यूमर किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन बढ़ते उम्र के साथ इसका जोखिम भी बढ़ जाता है। ब्रेन ट्यूमर 3 से 12 या 15 वर्ष की आयु में अथवा 50 वर्ष की आयु के बाद होता है। तो चलिए अब जानते हैं इसके कुछ विशेष लक्षण।

ऐसी स्थिति में सुबह के समय सिर में दर्द होता है, खासतौर ऐसा तब होता है जब व्यक्ति एक जगह से दूसरी जगह जाता है तब यह परेशानी और बढ़ जाती है।

सिर दर्द भी ब्रेन ट्यूमर का शुरूआती लक्षण हैं, लेकिन अक्सर लोग इसपर अधिक ध्यान नहीं देते।

ब्रेन ट्यूमर शारीरिक संतुलन को प्रभावित करता है इस स्थिति में कई बार चलते-फिरते हुए शरीर का संतुलन बिगड़ जाता है और व्यक्ति गिर भी सकता है।

ब्रेन ट्यूमर होने पर बोलने, सुनने, याददाश्त और भावनात्मक समझ में परिवर्तन आ जाता है।

Read Source : roganusar.com

error: Content is protected !!